Friday, January 20, 2017

माया मन आकाश है थाह नहीं है कोय

माया मन आकाश है थाह नहीं है कोय
मैं मरे तो माया  मिटे  बंधन रहे न कोय

भावार्थ
१८/११/२०१६








Saturday, October 29, 2016

शुभ दीपावली २०१६

चकाचौंध हुए सब शहर
पर भीतर काजल कोठरी
फूंके लक्ष्मी सरे राह पे
खाली भूखों की टोकरी

व्योम पुटाश से है भरा
हवा में बस गयी गंध
आज पाखी जो भी उड़ा
कुछ बधिर हुए कुछ अंध

है राम लौटने की ख़ुशी
तू दे रावण को सिधार
काम क्रोध जो हैं बसे
तू उनको जला के मार

दीप जला स्नेह का
दे सेवा से तू सजाय
ध्यान लगा तू इष्ट पे
अर दिवाली ले मनाय

भावार्थ
३०/१०/२०१६
शुभ दीपावली २०१६